श्रद्धांजलि

अम्मा अज्ज सतराँ बरयाँ दी होई गेई
उआने ते उट्ठी ओबरिया जाई सोई गेई।

खुआंदी थी कदि कमाई करी टव्वरे जो
तिन्ना पुत्रां च अज्ज अम्मा बंडोई गेई।

चा$ करी करी तिन्ना पाल़ेया था टव्वर
टव्वरे जो अज्ज सैह फाल़तु होई गेई।

बणाई बणाई खिंदां भरियाँ थियाँ बिल़गां
अज्ज इक्की खंदोलुएं अप्पूं लपटोई गेई।

अम्मा सौए ओबरिया पौहें सौए उआने
टव्वरे दियाँ तान्याँ अज सैह डंगोई गेई।

रल़ी मिल़ी किह्यां करनी ऐं तंग अम्मा
लाड़ी बी मिंजो कनै थी सखल़ोई गेई।

जिन्नी राज कित्ता कदि बीह्याँ माह्णुआ
दिक्खी दूरी तिन्हां दी अप्पूं संगोई गेई।

जदूंँ चलदियाँ थियाँ जंघा था जोर जीह्बा
नी सरीर हुण चलदा जीह्ब भी चुपोई गेई।

ठगदी थी टब्बरे जो गुड़े दे इक्क ढेलुऐ नै
ब्रते रै बहाने अज्ज सैह अप्पूं ठगोई गेई।

दिक्खी दुख बच्चयाँ दा बहांदी थी अथरु
लकोई दुख अपणा मुंह ढक्की रोई गेई।

उम्र सारी कित्ता सबनीं दा भला तिसा
सच मेरी अम्मा अज्ज सबनां ते लुटोई गेई।

सुआंदी थी सुक्कैं थी अप्पूं सौंदी गिल्लैं
अथरुआं नै अम्मा अप्पूं गिल्ली होई गेई।

इतणे भारी पिट्टे तू अम्मा कजो स्यापे
छुटी गेई जल़बाँ अज्ज हाख बी मटोई गेई।

क्या गेई अम्मा निमौड़ा मैं बी होई गिया
रेही गिया किह्ला किस्मत बी बदलोई गेई।

गलांदी थी मिंजो छोरु बणी जा माह्णु
मिंजो तिसारी अज्ज गल्ल समझोई गेई।

सुणी नी सकदा कदि बुराई मैं अम्मा दी
गलाया कुन्नी ज़रा क सै: काल़जें छोई गेई।

बड़े कलेस दित्ते थे तिसा जो मैं मित्रा
भार अपणे दुखांरा सैह किल्ली इ ढोई गेई।

निराश मेरियाँ नीताँ नी मिंजो माफ करना
अम्मा दी सुणी नी लाड़िया दी सुणोई गेई।

सुरेश भारद्वाज निराश
ए-58 न्यू धौलाधार कलोनी
लोअर बड़ोल पी.ओ. दाड़ी
धर्मशाला जिला कांगड़ा (हि प्र)
पिन 176057
मो० 9418823654
9805385225