खण्ड -काव्य दा दूआ ध्या 

           
भार-भरोटू चुक्की माह्णू,

टप्पै       खड्डां  — नाल़ू ।
खरे खड़ोत्ते खड़े खरकड़े,

दमघोटणू            कुआल़ू ।
उब्बड़साई — हौल  चढ़ाई ,

उप्पर       ठंडी        ब्हार ।
मुक्कै फट्ट’नवीन’थकावट,

दिक्खा    लोक्को    प्हाड़ ।।
          नवीन हलदूणवी 

   09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा   ,. हिमाचल l

[: खंड -काव्य दा दूआ ध्या 

         नवीन हलदूणवी 
ठिच्चू   ढौंग   रचाई   पींदा ,

भंग — तमाक्कू —- सुल़फ़ा ।
बणीं  सनैड्डू  खंग्घा  करदा,

गल़े       च    अटकै   गुल़फ़ा ।
कैंसर – टीबी – दमा    बमारी,

जीणा          सुज्झै        भार ।
गुरगुड़ियां  ते  हुक्के -नड़ियां ,

दिक्खा       लोक्को      प्हाड़ ।।
         नवीन हलदूणवी 

09418846773

काव्य-कुंज जसूर-176201,

जिला कांगड़ा    , हिमाचल l