बे उआजा घसा/पहाड़ी ग़ज़ल/डॉ कंवर करतार

ग़ज़ल

बे उआजा घसा पोआ दा I
माह्णू जाणे नीं क्या होआ दा II

अम्बरे गासें चिक्कड़ सुट्टी ,
कोई अप्पूं फी मन्डोआ दा I

छल़ छल़ेवा करी होरां नै ,
तिगड़मी उपरे जो गोह्आ दा I

भरियो काल़ख दिला रे अन्दर,
पाई के चिटड़े छंगोह्आ दा I

अह्नी जे पीह्ए कुत्ता चट्टे ,
कम कसूता भई होआ दा I

नचदी कुदरत नचांदी कुदरत ,
माह्णू चींह्दी जो फणसोआ दा I

झोटयाँ दी लड़ाई लगियो ,
घाह् खुरां हेठ दरड़ोआ दा I

सोचदा क्या जे तिस ताँई ऐ,
मिट्ठियाँ फी गल्लां टोह्आ दा I

ऊँगली पकड़ी तू बड्डा होया ,
हुण तिन्हां ते ई पखल़ोआ दा I

खेते चिड़ियाँ चुगी गैईयां ,
कैंह् मुआ आई हुण रोआ दा I

अन्दरे दी उआजा सुण अज ,
मतियाँ बत्तां तू टपलोआ दा I

पैसे आल़ा ताँ भुक्खड़ मूआ ,
सैह् गरीबे मुहाँ खोह्आ दा I

रोज मंग्याही चढ़दी ‘कंवर’ ,
मनसुखा डीह्नू रगड़ोआ दा I

कंवर करतार
‘शैल निकेत ‘ अप्पेर बडोल
दाड़ी धर्मशाला हि.प्र.
9418185845

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *