अणमुक कीत्ती मिणत/नवीन हलदूणवी

नवीन हलदूणवी

अणमुक कीत्ती मिणत-मज़ूरी ,

फ़ी    बी   नीं   पौंदी  ऐ    पूरीl

चीज़ां दा  हुण मुल्ल बड़ा ऐ  ,

किंह्यां  खाणी ऐं   घी – चूरी ?
पैसे   ब्हाल़े   बुढ़का   करदे ,

माड़े  जो  हुण  जान  भरूरी l
पुट्ठपल्लड़े         वेसिरपैरे ,

वैर  –  वरोधां  जान   वरूरी l
प्यार  – प्ल़ोप्पे   झूठे  मित्तरो ,

दिन-दिन  बधदी  जाए  दूरी l
भोल़े-भकल़े  जो  कुण  पुच्छै ,

दुनियां   होई  अज्ज  गरूरी l
सच्ची गल्ल “नवीन” गलांदा ,

समाजे  च  ऐ  प्हौंच   जरूरी l 
     नवीन हलदूणवी 

०९४१८८४६७७३

काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,

जिला कांगड़ा (  हिमाचल  )l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *