मजिल तुम्हारी कठिन नही है/अरुण

मजिल तुम्हारी कठिन नही है
कठिन है रास्तो पर चलते रहना
कोशिशो से मजिल मिल जाती है
पर कठिन है कोशिशे करते रहना
परिदे भी गिरते है पहली उडान मे
मगर कठिन है उडाने भरते रहना
मजिल तुम्हारी कठिन नही है
कठिन है रास्तो पर चलते रहना

आधियो ने बहुत तबाही मचाई
कठिन है मुकाबला करते रहना
बहुत तुफान आते है राहो मे
कठिन है तुफानो मे बढते रहना
दिन भी होता है रात भी होती है
कठिन है मोम्मबती सा जलते रहना
मजिल तुम्हारी कठिन नही है
कठिन है रास्तो पर चलते रहना

सर्घष से सब कुछ मिलता है
कठिन है सर्घष करते रहना
लडकर ही बदला है सच्चो का झूठ
मगर कठिन है सच लडते रहना
जहा भी जाओ वहा जीत ही आना
कठिन है अब सच हरते रहना
मजिल तुम्हारी कठिन नही है
कठिन है रास्तो पर चलते रहना

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *