मंथन 
        अनन्त ही में अन्त है 

        तो क्यों यह सब प्रपंच है

        यह रुदन तेरा व्यर्थ है

        तू स्वंय ही समर्थ है

        क्यों ईश को है कोसता 

        क्लेश द्वेष पोसता

        प्रणय प्रभा प्रबल है तू

        पूर्ण भी है सबल तू

        तू स्वंय ही पीयूष है

        नदी नहीं नदीश है

        तो क्यों है भ्रम में जी रहा

        भय का विष है पी रहा

        जाग चक्षु खोल तू

        प्रभास एक अमोल तू

       अमर तू   दिगन्त है

       दीप्ति एक चिरन्त है 

       अनन्त ही में अन्त है 

       तो क्यों यह सब प्रपंच है ?
                              गिरिजा गुलेरी डोगरा