हास्य पहाड़ी कवत्ता/बिक्रम 

हास्य पहाड़ी कवत्ता—–
बड़ी कलिहारी पेइयो पल्ले ,
बुड्ढी होई पर नी सुधरी हल्ले ।

जोरे-जोरे खूब रड़ियान्दी,
सारे मुलक्खै हल्ला पान्दी।
मैं गलान्ना लोक सुणदे!
बोल अड़िये बल्ले ।
बड़ी कलिहारी पेइयो पल्ले ,
बुड्ढी होई पर नी सुधरी हल्ले ।

सुणां लोको इसदे चाह् न बखरे,
जेह्ड़ा मंगदी मैं सब कुछ दिन्नां
फिरी भी लांन्दी बड़े भरी नखरे।
जे कुतै होरती हौंन्दी तां,
खाणें थे इसा बडे भरी खल्ले ।
बड़ी कलिहारी पेइयो पल्ले ,
बुड्ढी होई पर नी सुधरी हल्ले ।

खुलम़खुला खरचा करदी,
मिजो ते नी कदी भी डरदी।
मेरिया सलाही कदी भी चले
बड़ी कलिहारी पेइयो पल्ले
बुड्ढी होई पर नीं सुधरी हल्ले ।

मैं ता इसादी हर गल्ल सुणदा
जताहां छुलाये ततांही पुणदा
मेरिया गल्लां करे हर जगह थल्ले
बड़ी कलिहारी पेइयो पल्ले
बुड्ढी होई पर नी सुधरी हल्लै ।

इदेयी जनानी ते मालक बचाऐ
इदेयी जनानी कुसी दे घरे नी आऐ।
इदेयी जनानी ते खरे ही कल्ले ।
बड़ी कलिहारी पेइयो पल्ले ,
बुड्ढी होइ पर नी सुधरी हल्ले ।

घरे मैं आन्दा तां कुड़-कुड़ लान्दी,
मेरे ता रोज ए कन्नां खान्दी।
डंगर सुधरे सेह् लगी गे गल्ले।।
बड़ी कलिहारी पेइयो पल्ले,
बुड्ढी होई पर नी सुधरी हल्ले ।

विक्रम गांव समोट
जिला चम्बा (हिमाचल प्रदेश)
7018479919

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *