नवीन हलदूणवी

कताब भाइयो लिक्खणी
सुखाल़ी नीं ऐं मित्तरो l
एह् पसुआं चराणे दी
गुआल़ी नीं ऐं मित्तरो ll

हुण भावां जो वचारियै
प्ल़ोप्पेयां पल़ेस पाया l
एह् वेथौई पुट्ठड़ी
कुआल़ी नीं ऐं मित्तरो ll

भाऊ रीत ते रुआज़
पूजा-पाठ सब्बो अपणे l
ते देसद्रोहियां तांईं
दिआल़ी नीं ऐं मित्तरो ll

“नवीन” छन्दां-लंकारां नैं
कताब खूब भरीत्ती l
भाऊ लो$ भगुआने दी
भिआल़ी नीं ऐं मित्तरो ll

नवीन हलदूणवी
०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,
जिला कांगड़ा ( हिमाचल )l