पहाड़ी ग़ज़ल/डॉ कंवर करतार

ग़ज़ल

बापू जाह्लू होया जबरा I
बच्चे बोलण सत्तर भतरा II

भुलदा नाँ फी जाह्णी पुच्छै ,
बणदा अपणे आपें चतरा I

पांदा रौल़ा जे मन मंगै ,
खाणे जो सौ करदा नखरा I

खेलां निक्केयाँ नैं पाए ,
बणदा हाथी घोड़ा खचरा I

कुण आया गेया क्या बोलै ,
सबना दी रखदा ऐ खबरा I

करदा रैह्न्दा टोक टुकाई ,
सूल़िया चढ़ांदा सैह् टबरा I

हसदा कदी, कदी ऐ रुसदा ,
लगदा ताह्लू कसरा कसरा I

पाई छड़दा घरें हल़ाहल़ ,
सैह् नीं खुँजणा दिंदा बतरा I

गुड़ गुड़ हुक्का पीन्दा खंह्गै ,
तिसदे हुन्द्याँ नीं कोई खतरा I

त्राण नीं लत्तां रैह्या बोले ,
दस्सा खोट बजेरा बकरा I

सबना दे सुखसान्दा लैंदा ,
आंदा जांदा ठसरा ठसरा I

आह्ली बी जीणे दी ताह्न्ग ,
चुक्के कचरा चीरै पचरा I

‘कंवर’ ऐ भाणा कुदरत दा
उच्चा सुणदा मिचकी नजरा I

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *