गज़ल़

गल असां तांई करदे, कोई, माहणु खरा मिलदा,
रुकदे वी तांई जे, कोई अपणा ज़रा मिलदा।

टुटिया तकदीरा लेई, था कुथु कुथु असां जाणा
पुज्जी तां जाँदे असां जे, कोई आसरा मिलदा।

कुसने था गलाणा इह्यां-इ, दर्द दिलड़ुए दा,
शैद तेरेनै -इ गलाई लैंदे, जे तू यरा मिलदा।

लम्मा था बड़ा रस्ता कनै तरेह थी बड़ी लगियो,
पाणी तां असां तांईं पींदे, कोई खूह भरा मिलदा।

सिरे पर था सूरज कनै पैरां च रेत तपियो,
छऊँआं तां असां बौदे जे, कोई रुख हरा मिलदा।

जल़ी गेया मेरा टपरु कनै कुनी नी बुझाई अग्ग,
तिज्जो -इ सदाई लेंदे असां, जे, तू घरा मिलदा।

जीणा अज सारेयां दा, कैअ कुजीण होई गेया,
जगदी रैंहदी आस सबदी,नी माहणु मरा मिलदा।

क्या गलाणा कुसी जो, तू दस मेरे मितरा,
जेह्ड़ा बंडया असां पैहलें, इत्थु सैइ अरा मिलदा।

छडि दिंदा डोर कदि , निराश जे तू उस पर,
समान तिज्जो जीणे दा, इत्थु इ धरा मिलदा।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी, लोअर बड़ोल
पी.ओ.दाड़ी (धर्मशाला) कांगड़ा
पिन 176057
मो० 9418823654