मित्तर मेरा डण्ड पठन्ड़ी/डॉ कंवर करतार

ग़ज़ल

मित्तर मेरा डण्ड पठन्ड़ी I
भोल़ा बणदा सच्च पखंडी II

दिन राती मारी ऐ डंडी ,
हुण ऐ नेता लान्दा झन्डी I

सच्च गलाए कोई माह्णू ,
चमचे तिसदे दिंदे फंडी I

नमके दी सैह् कसमा पाई ,
अप्पूं खांदा रेह्न्दा खण्डी I

नोटां नोटां जेबा भरदा ,
भाह्ना दी मारै फी छंडी I

लोकां दी जैदादां मारी ,
अपणेया बिच लैंदा बंडी I

झूठ गलाई सत्ता लुट्टै ,
हटी फिरी नीं चढ़दी हण्डी I

रंगड़ नीं हुण पिच्छा छडदे ,
हुज लाई तू कैंह् तिस भंडी I

तख्दे दी आस्सां नीं छड्डै ,
झुकदी जाए भौएँ कंडी I

चाल सियासी मारै तिगड़म ,
बैर बरोधां रखदा गंह्डी I

छड ‘कंवर’ तू छाड़ छड़ापे ,
मुकदा रस्ता हंडी हंडी I

कंवर करतार
‘शैल निकेत’ अप्पर बड़ोल दाड़ी
धर्मशाला
9418185485

2 comments

  1. दाद देणे ताईं मता सारा धनबाद संजीव सूद जी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *