ग़ज़ल

चोरां दे कपड़े डांगा दे गज I
बापू दी खट्टी पट्टां तू बज II

ऐ चार धिआड़े जोर जुआनी ,
बुढ्ड़ी बेला नीं जीणै दा हज I

कोड़कू रल़ेयो छंड़ोणै नीं ,
जितड़ा मर्जी मारै कोई छज I

हण चिकड़े बिच मंडोयो सारे ,
शावाशी कुसजो, कुसजो पज I

जेह्ड़ा जे करगा मगज खरोली ,
चाबी तिसगें होणा तिसगें हज I

लारे लप्पे बस फोके गफ्फे ,
हुंगा भुखें पेटें किह्न्जा रज I

कैंह् लोकां नैं गद्दारी कित्ती ,
राम नाम हुण कूणा बैठी भज I

इक वारी जेला होई आया ,
तिसजो हटी मुड़ी फी कैह्दी लज I

ऐ नेत्यां दी इक सिफ्त पुराणी ,
थे दुसमण कल ,खव्वे सज्जे अज I

कंवर करतार
‘शैल निकेत’ अप्पर बड़ोल,दाड़ी
धर्मशाला I
9418185485