घर की कहानी/मोनिका शर्मा सारथी

—घर
छैळ कनै बाँका घर हर जनानिया दा सुपणा होन्दा ।मेरे बापूए अम्मा दा एह सुपणा झट ही पूरा करी ता अपणीया छोटीया दिया चाकरिया च बड़ा बधिया खुल्लेया ऊआनां आळा घर बणाया।अज्ज घरे च रंगा आळा कम खत्म होणा लगया था।मेरे दिले दी खुसी लुकाईयो नि थी लुक्का दी। बोब्बी तू इन्नी खुस कैंह लग्गा दी अज्ज,”? मेरी छोट्टी बैहण नंदू पूछणा लग्गी।मिय्ये खुसिया दी ता गल्ल है, हण सांजो कराये दे मकाने च नी रैहणा पौणा ।है न? चल दे ताळी।ताळियां ही बजांदियां रैंहगियां कि कम्मे वास्ते अपणेया तिक्कड़ां भी हल्लागींयां?अम्मा चुक रख करदी जोरे ने बोल्ली।इसते पैहले कि मैं किछ कमांदी मेरी नजर गलेजे आळीया दवारा पर पैई।अम्मा एह क्या कित्तेया तुहां एह पर्दे जरा भी बैठका दियां दवारां दे रंगें कन्नै मेळ हई नी खा दे , पिते जो मरून रंगे दे पर्दे ल्योणा चाही दे थे।पिते ने गलांदेयां ही पिता झटपट पर्दे बदळी लेई आए।असां सारे खुसिया खुसिया घरे दिया साज सजावटा च लगेयो थे।कि मेरी चाच्ची अंदर आई ।मैं भी सत्कार भावना कन्ने कुर्सी अगे करी ती बैठा चाच्ची जी।
नई नई मैं बैठणा नी आईयो “,मैं घरे दिख्खणा आईयो।मेरे ता जिह्यां फुळ खिड़ी गै।अच्छा चाच्ची जी😊चला मैं चाच्चीया दा हथ पकड़ेया करी घरे च घुमाणा लगी पैई।एह दिख्खा एह
म्हारी रसो ओह दिख्खा परोणेयां दा ऊआन, सैह बैठक है,मैं बोलणे जो जोर कितया अपण चाच्चीया दे मुँहे ते इक भी शब्द हई नी था निकळा दा बस सपरिंगे साईं क्याडी ऊपर हेठ थी होआ दी।उमा बैठी जाएं चाह बणादी मैं”, अम्मा गलाणा लग्गी।नहीं बस मैं चली पैई किछ क बड़ा झडोई करी गलाया चाच्चीया।अम्मा भी दूऐ ऊआने बड़ी गैइ।इसते पैहले मैं पूछदी कि नंदू बोली पैई ।चाची जी कदैया लग्गा अहां रा घर? कदैया तुहां दा घर चाच्ची हल्की हल्की मुस्करांदी बोलणा लग्गी।मियो तुहां दूहीं बैहणा दा घर ता तुहां दिया किस्मता तोपणा भई कतां होंगा करी न ता तुहां दा कोई भाई है जिन्नी एह घर सम्भाळी लैणा बड़े होई करी,” खैर अपण वीरे इन्ना बड्डा घर बणाई करी पैसा कनै टैम दोनों बर्बाद कित्ते,”।बोल्ली चाच्ची डयोड़िया बाहर टप्पी गई करी अहां दूं बैहणा दियां मयूस नजरां चाच्चीया जो दूरे तिक्कर जांदिया दिख्ख दियां रैहीयां।

मोनिका शर्मा सारथी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *