नवीन हलदूणवी

समाजे च पाप भरोआ दा ,
हुण झूठोझूठ लखोआ दा l

भोल़े जो कोई पुच्छै नीं ,
हुण चक्किया मंझ भ्योआ दा l

धन्नू तां मौज़ां लुट्टा दा ,
हुण गरीब ग्रांईं रोआ दा l

टैम्मे दी रोट्टी थ्होंदी नीं ,
हर कोई अज्ज खखोआ दा l

लुच्चे दी इत्थू चांदी ऐ ,
गुणियां तां हेठ दबोआ दा l

हुण ‘नवीन’ कवि नैं के करना ,
हर पास्सा ऐ दरड़ोआ दा ll

नवीन हलदूणवी
०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,
जिला कांगड़ा ( हिमाचल )l