चढ़ेया कैह्जो तेरा पारा
डॉ.पीयूष गुलेरी

मेरे मित्तरा मेरे यारा ।
चढ़ेया कैह्जो तेरा पारा ।।१!!
मिंजो चाड़ियां बजदेयां दिक्खी।
कैह्जो पेट्टैं पेया ‘फारा ।।२।।
खरा खरा नित खरा कमाई ।
यारो! अपणे भाग सुआरा ।।३।।
कोयला, बजरी, रेता, सीमंट ।
रज्जा-दे नीं खाई चारा ।।४।।
मन,बुरियांइयां बक्खैं दौड़ै ।
ताह्लू तिसयो झटपट ठारा ।।५।।
लोहा बोल्लै, संद्दर होया ।
तेरिया चांडा , अबो! लोहारा ।।६।।
रगड़ी तगड़ी जिन्नीं जनता ।
देश-प्रेम-दा , ला -दा नारा ।।७।।
हटी ,फिह्री सैह् वोटां मंग्गै ।
पंज्जां बह्रियां , लाई लारा ।।८।।
म्हारे पैर -बि दित्ते पुट्टी ।
इन्नां बांकिया छैल़ नुहारा ।।९।।
देशे लुट्टी दो:ग्गड़ गोग्गड़ ।
थुलथुल होया नेता म्हारा ।।१०।।
जिन्नीं सुथरैं रस्तैं पाया ।
मितरो , तिस-दा भार तुआरा।।११।।
मोड़दा रेह्यां मनें -दी मेंईं ।
मन मेरा -ऐ आप -मुहारा ।।१२।।
बोल ‘पीयूषा’ वीणा पाणी ।
माता , करेयां पार तुआरा ।।१३।।
***************
अपर्णा-श्री हाऊसिंग बोर्ड कालोनी
चील गाड़ी धर्मशाला हिमाचल-प्रदेश
पिन १७६२१५
मो.९४१८०१७६६०
दू.भा.०१८९२२२६२२४