खंड -काव्य दा पैह्ला ध्या
नवीन हलदूणवी

चार-चफेरैं इत्थू दिक्खा ,
हरियाली ऐ छाई ।
रूप- जुआन्नीं लेइयै अप्पू,
कुदरत राणी आई ।
चानणियां लेई सौग्गी चंदा ,
मोत्ती दे खलार ।
छैल़छबीला सौह्णा लग्गै,
लोक्को प्यारा प्हाड़ ।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
खंड -काव्य दा पैह्ला ध्या
नवीन हलदूणवी

रिढ़ियां -रिढ़ियां खेत्तर दिक्खा,
रिढ़ियां – रिढ़ियां बाग ।
छल्लियां दी रोट्टी दे कन्नैं,
खा सरुंआं दा साग ।
उच्ची – लम्मी छैल़छबीली ,
इत्थू धौल़ाधार ।
सुरगे दे तख्ते ते सुच्चा ,
लोक्को प्यारा प्हाड़ ।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल l