नोटवंदी प्रकरण

?????

चल मना चल, हुण छडि दे खुमारिया,
लगणा इ पौणा भाऊ ! साहुए दी जुआरिया।

जेह्ड़ा कोई मुआ तिसजो मारेया हुश्यारिया,
होए कोई साधू संत या कोई संसारिया।

असां बी तां मरे लग्गी, नोटां दिया लैणी,
दूआ स्हांजो मारेया, था बेथौह धुआरिया।

कदूं तिक भुक्खे रेही करना था गुजा़रा असां,
होर धुआर नी था दिंदा मोया सैह बपारिया।

बोला दी सरकार स्हांजो कैश लैस होई जा,
स्बैप मशीन रखी लै तू बी हुण भखारिया।

बांदरा जो बेशक भाऊ, खूब तू नचाई लै,
फोने च रख पेटिएम, हुण तू मदारिया।

नौए नोट छपे थे बड़े भारी सुणया,
छापेयां च मिलण कनै मुकण स्हाड़ी बारिया।

कुनी दित्ती नौंईं करंसी आतंकिया-ब्लैकियां जो,
सोची सोची थकी गेया मैं, सिर बड़ा भारिया।

कतारां च लग्यो लोक , थे जै मोदी बोला दे, गलाअ दे थे टीबी पर, मोदी मुल्खे तारिया।

कम बड़ा छैल़ कित्ता मैं अज्ज बी गलाअ दा,
दशकां बाद आया कोई बेईमानां जो मारिया।

पर सामणे जे आया था सैह बड़ा इ डरौणा था,
लग्गै कोई अर्थब्यवस्था, पटरिया ते उतारिया।

बैंका च कैश नी था एटीएम पेइयां खाली,
ईमानदार माहणु लग्गै बेईमानां ते हारिया।

दो हजारी नोट चल्या, छुट्टा मिलणा होया बंद,
खीसें पैसे पेट भुक्खा, हर कोई गुस्सा खारिया।

कतारां च मरे जेह्ड़े, तिन्नाजो बिनम्र श्रद्धांजलि,
मारोमारी तिह्यां-इ थी भीड़ बी थी जारिया।

दिन दिन चोर बाज़ारी, होर जोर पकड़ा दी,
कुस कुस ने लड़नायै, हुण जनता बचारिया।

कदूं तिक सधरोंग हालत, देसे दी दसमित्रा, गलान तां जे सारे फि:, मुल्खे कोई सुधारिया।

सत पौंईट नौ जीडीपी पंज पौईंट सत रेहिगेया
तिमाही दर तिमाही घटै संकट एह किछ भारिया।

फैसले जाह्लु होंदे बड्डे तंगी तां थोड़ी होंदी ऐ किछ दिनां बाद लगणा स्हांजो कोई उभारिया।

निराश गरीब उमरां दा सबनां ते ठगोआ दा,
फि: कोई मसीहा बणी, क्या स्हांजो चारिया।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी धर्मशाला हिप्र
176057
मो० 9418823654