197/29:08:2017

ढोल ढमाका बज्जा दाॅ,
जोरे आॅल़ा गज्जा दाॅ।

पिंड जुआड़ी खाद्दा जी,
फी:वी ढिड्ड न रज्जा दाॅ।

रूप डरौणा बरसाती,
नदिया नाल़े खड्डा दाॅ।

नेड़-पड़ेसी भौंकादाॅ,
बीड़ाँ बन्ने बड्ढा दाॅ।

बाडर पार कराई के,
बम्ब पटाक्के छड्ढा दाॅ।

मिछरी माह्णू पौऐ ताँ,
जल़या थोब्बड़ टड्डा दाॅ।

छैल़ घसुन्नाँ खाईयै,
खड़ियाँ ढाईं डड्डा दाॅ।

जोर जबर दे अग्गैं कैह्,
मुंड्डी नीह्ठी छड्डा दाॅ।

छड्ड गुलामी चोराँ दी,
बाबा बणियै बड्ढा दाॅ।

भोल़-भुलकड़े लोकी जी,
ठगणा कैंह् नी छड्डा दाॅ।

जान जमीनाँ इज्जत दे,
दिक्ख जनाज़े कड्ढा दाॅ।

अज्ज ‘नवीन’ गरीबणुआँ,
इंह्दा चक्कर छड्डा दाॅ।

नवीन शर्मा ‘नवीन’
गुलेर-कांगड़ा (हि०प्र०)
176033
?9780958743