(जे होआ रा सैह् होणा दे)
जे होआ रा सैह् होणा दे।
जे गलोआ रा सैह् गलोणा दे।
तूं अप्पणे रस्ते चलदा जा।
अग्गो अग्गैं बध्ददा जा।
जित्थूं जाई न्नैं थक्कगा तूं।
ओथूं जाई न्नैं खड़ोणा दे।
जे होआ रा सैह् होणा दे।
एह जग्ग बड़ा अनोखा मित्तरो ।
झूठे फल्ल़दे फुलदे ऐत्थू हन
सच्चे बुरा दाएं घस्सोंदे ऐत्थू।
फी बी खरेआई तूं नीं छड्डणी ।
दूएआं जो अप्पणी अग्गी जलोणां दे।
तूं कैंअ सोचैं पेया यारा।
रब्बे दा एह सब भाणा ऐ।
जे होआ रा सैह् होणा दे।
इक्कोई गल्ल गठ्ठी बनणी मेरी।
दम्म बट्टी न्नैं जमाना कट तूं मित्तरा।
उप्परे आला़ जे चाहे सैह् करना दे।
खरे रा अंत हमेशा खरा ही होंदा।
तूं बुरे जो बुरिआई करना दे।
जे होआ रा सैह् होणा दे।
ठौकुर सब किछ दिक्खा रा भाऊआ ।
किस्मता रा कड़छू तिस्स जो बंडणा दे।
तिस्स दा भाणा मन्नदा जा तूं।
सच्चे राहें चलदा चलदा जा तूं।
फी जे होंदा सैह् होणा दे।
जे गलोऐ परिमल गलोणा दे।
जे होआ रा सैह् होणा दे।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033, संपर्क. 9418187358