नवीन हलदूणवी

जिद्दैं पल्लैं खरी लिआकत ,
लोक्की बोल्लण ताऊ l
दुनियां अन्दर झंडे गड्डा ,
बणियैं पुत्त कमाऊ ll

लोक्कां जो हन लुट्टा करदे ,
वेपीरे भतखाऊ l
माणुसता दी करा सिओआ ,
समझाया हा माऊ ll

खरे नीं हुंदे प्यार – प्ल़ोप्पे ,
भाषण नीं भड़काऊ l
कम्म कमाणे ब्हाल़े लीडर ,
नीं हुंदे टरकाऊ ll

बाड़ खेतिया लगे जुआड़न ,
बणी “नवीन” पुआऊ l
भारत जो कमजोर करा नीं ,
बोल्लै मित्तर भाऊ ll

नवीन हलदूणवी
०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,
जिला कांगड़ा ( हिमाचल ) l