बाल कविता
दादे दा तां पोतु सैह्
डा प्रत्यूष गुलेरी
खेलदे बेल्लैं खी खी खी
पढ़दे बेल्लैं टी टी टी
चल स्कूलैं जा मेरे मुन्नु
मैं खुआन्ना चूरी -घी
सब्बो इक बरोबर हन
जागत होऐ भौआं धी
पापा बोलण पढ़ना बैह्
मेरा सच मुबाइलैं जी’
फसल ल्योणी चंघी तां
चंघा बाह्या होंगा बी’
दादे दा तां पोतु सैह्
बोल्लै पढ़ना पढ़ना जी।
कीर्ति कुसुम,सरस्वती नगर
पोस्ट दाड़ी,धर्मशाला (हिमाचल प्रदेश)।पिन-176057