नेकी कर मीठा बोल

नेकी कर मीठा बोल
सबका आदर नित तु कर

नित कर सबका सत्कार
मत देख साधु संतों का चमत्कार

भाई बंधु अपने पराये
सबको गले से लगायें

नफरत का सम्बन्ध छोड़
भक्ति में अब मुँह मोड़

जिंदगी की राह कठिन है
यहाँ जीता जगता इंसान भी राक्षस है

बन देव नित जन जन पर करे अत्याचार
और करते है मज़बूर मासूमों का हत्या बलात्कार

बड़े बुजुर्ग की सेवा तु कर
साधु संत के चक्कर कम कर

जहाँ होगी रोज़ माँ बाप की पूजा
वहां क्या ज़रूरत साधु संत की पूजा

ज्ञान ले अपनों से बड़े बुजुर्गो से
वे संत से कम नहीं साधु से कम नहीं

बन समाज का दर्पण
कर तु सब अर्पण मोह माया

राम भगत अब भी हारा नहीं
दुनियां के भीड़ से बेरोज़गारी से भर्ष्टाचारीयों से

नेकी कर मीठा बोल
सबका आदर नित तु कर

राम भगत