सत्संग के नाम पर
सत्संग के नाम पर
हो रहे है और भी काम

भगवा चोला लगा कर
कर रहे है आज घिनौना काम

संस्कार के आड़ में हो रहा है ये काम
राम रहीम का नाम को कर रहे है बदनाम

चोला बदलने से यहाँ स्वामी बन जाते है
धर्म कि आड़ ले कर लोगों से विश्वाश घात

आश्रमों में पड़ा है धर्म का अंधा धँधा
आज ये केसा हो रहा है खुलेआम धँधा

मर रहे है लोग बचा रहे है सरकार
पापियों पर ये केसा हो रहा ये सत्कार

धृतराष्ट्र बनी है ये सरकार
अंधे भक्तों को दे रही सत्कार

डेरा पर बहुत बवाल मचा है
सच्चाई को फ़िर से दबा रहे है

राम रहीम के आड़ मे चला है ये केसा शोर
धर्म कि आड़ में मत मचाओ इतना शोर

सख्त हो कानून जहाँ धर्म बदनाम हो
होना पड़ता है यहाँ भक्तों को रोज़ अपमान

राम भगत