ग़ज़ल/डॉ पीयूष गुलेरी

**** ग़ज़ल ****
डॉ.पीयूष गुलेरी
नेते खे:ल्लन छल़दुकबड्डी ।
दुख-तकलीफ़ां ,जनता डड्डी।।
पैयो-हन भछटोई यारो ।
द:स्सन मारी -मारी अड्डी ।।
मि:केयो- हन अप्पू-छैं मितरो।
क:दकी मीरी क:दकी फड्डी।।
केई लुट्टी खा-दे देस्से ।
केई मड़ेयो! थित्थां छड्डी ।।
पंज्जां बह्रियां तांईं जनता ।
दिक्खा-क:रदी हक्खीं टड्डी।।
बारिया-बारिया फिह्री नंगोए ।
छैल़-छबीली पैह्नी च:ड्ढी ।।
बोल्ला-दे, हण किंह्यां छडणी।
जेह्ड़ी मूंहैं ल:गियो हड्डी।।
पुत्तर धींsयां नूंहां ल्योई ।
बो:ल्लन , खे :ल्ला खेल कबड्डी।।
चारा-दे हन लोक्कां मोयो! ।
बोल्ला क:रदी भाबो बड्डी ।।
रेह्या वोटर टुर-टुर दिखदा ।
मोआ हाक्खीं टड्डी-टड्डी ।।
टौंह्च-टपौंह्चे बो!’ पीयूषा’ ।
दिक्ख, चलाणी आसां गड्डी।।
खे:ल्लन एह्इयो दो-तिन टीमां।
बारिया-बारिया हाक्खीं दब्बी।।
************
अपर्णा-श्री हाऊसिंग बोर्ड कालोनी,
चील गाड़ी धर्मशाला हिमाचल-प्रदेश।
पिन १७६२१५
मो.९४१८०१७६६०
दूभा०१८९२२२६२२४

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *