गीत/नवीन हलदूणवी

गीत

नवीन हलदूणवी

मघिआइया लोक कीत्ते तंग मित्तरो ,
रंग च तां पौआ दी ऐ भंग मित्तरो l

खाणे ब्हाल़ी चीज़ां च सुआद कुथू ऐ , भभूता
कौड़ी अज्ज लग्गदी ऐ खंड मित्तरो l

भुक्खा भाणा भाइयो गरीब बोलदा ,
औक्खा ऐ टपाणा अज्ज डंग मित्तरो l

पढ़नीं पढ़ाई बड्डी किंह्यां मुन्नुएं ,
फीस्सा ते बी बधी गेन फंड मित्तरो l

“नवीन” तोप्पै सरकारी अज्ज स्हूलतां ,
चुक्कणी ऐं किंह्यां करी पंड मित्तरो ?

नवीन हलदूणवी
०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,
जिला कांगड़ा ( हिमाचल ) l

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *