भारत की समृद्ध संस्कृति और परम्पराएं/अजय बालोतरा

भारत की समृद्ध संस्कृति और परम्पराए
सनातन धर्म

दुनिया का सबसे प्राचीन और पवित्र धर्म है हिन्दू धर्म। हिन्दू धर्म में आस्था, विशवास, और परंपरा का अपना ऐक अलग ही महत्व है। यही कारण है कि हिन्दू धर्म का स्थान विश्व के सब धर्मो में सबसे उपर है। इसी वजह से विश्व के अन्य धर्मो के लोग हिन्दू धर्म की और स्वतः ही खीचें चले आते हैं। भारत देश में प्रचलित परंपराएं जितनी धार्मिक कारणों से महत्वपूर्ण है उतनी ही वैज्ञानिक कारणों से भी महत्वपूर्ण है। अगर हम कहें कि हिन्दू धर्म में आस्था और विज्ञान समानांतर चलते हैं तो इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। इन्हीं परंपराओं के कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं :
दीपक के ऊपर हाथ घुमाने का वैज्ञानिक कारण

दीपक के ऊपर हाथ घुमाने का वैज्ञानिक कारण
आरती के बाद सभी लोग दिए पर या कपूर के ऊपर हाथ रखते हैं और उसके बाद सिर से लगाते हैं और आंखों पर स्पर्श करते हैं। ऐसा करने से हल्के गर्म हाथों से दृष्टि इंद्री सक्रिय हो जाती है और बेहतर महसूस होता है

*पीपल की पूजा*

तमाम लोग सोचते हैं कि पीपल की पूजा करने से भूत-प्रेत दूर भागते हैं।

वैज्ञानिक तर्क-

इसकी पूजा इसलिये की जाती है, ताकि इस पेड़ के प्रति लोगों का सम्मान बढ़े और उसे काटें नहीं। पीपल एक मात्र ऐसा पेड़ है, जो रात में भी ऑक्सीजन प्रवाहित करता है.

*तुलसी के पेड़ की पूजा*

तुलसी की पूजा करने से घर में समृद्ध‍ि आती है। सुख शांति बनी रहती है।

वैज्ञानिक तर्क-

तुलसी इम्यून सिस्टम को मजबूत करती है। लिहाजा अगर घर में पेड़ होगा, तो इसकी पत्त‍ियों का इस्तेमाल भी होगा और उससे बीमारियां दूर होती हैं।

*सूर्य नमस्कार*

हिंदुओं में सुबह उठकर सूर्य को जल चढ़ाते हुए नमस्कार करने की परम्परा है।

वैज्ञानिक तर्क-

पानी के बीच से आने वाली सूर्य की किरणें जब आंखों में पहुंचती हैं, तब हमारी आंखों की रौशनी अच्छी होती है।

*माथे पर कुमकुम का तिलक*

महिलाएं एवं पुरुष माथे पर कुमकुम या तिलक लगाते हैं।

वैज्ञानिक तर्क-

आंखों के बीच में माथे तक एक नस जाती है। कुमकुम या तिलक लगाने से उस जगह की ऊर्जा बनी रहती है। माथे पर तिलक लगाते वक्त जब अंगूठे या उंगली से प्रेशर पड़ता है, तब चेहरे की त्वचा को रक्त सप्लाई करने वाली मांसपेशी सक्रिय हो जाती है। इससे चेहरे की कोश‍िकाओं तक अच्छी तरह रक्त पहुंचता है।

*मंदिर में घंटा लगाने का कारण*

जब भी मंदिर में प्रवेश किया जाता है तो दरवाजे पर घंटा टंगा होता है जिसे बजाना होता है। मुख्य मंदिर (जहां भगवान की मूर्ति होती है) में भी प्रवेश करते समय घंटा या घंटी बजानी होती है, इसके पीछे कारण यह है कि इसे बजाने से निकलने वाली आवाज से सात सेकंड तक गूंज बनी रहती है जो शरीर के सात हीलिंग सेंटर्स को सक्रिय कर देती है।

*परिक्रमा करने के पीछे वैज्ञानिक कारण*

हर मुख्य मंदिर में दर्शन करने और पूजा करने के बाद परिक्रमा करनी होती है। परिक्रमा 8 से 9 बार करनी होती है। जब मंदिर में परिक्रमा की जाती है तो सारी सकारात्मक ऊर्जा, शरीर में प्रवेश कर जाती है और मन को शांति मिलती है।

*चप्पल बाहर क्यों उतारते हैं ?*

मंदिर में प्रवेश नंगे पैर ही करना पड़ता है, यह नियम दुनिया के हर हिंदू मंदिर में है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि मंदिर की फर्शों का निर्माण पुराने समय से अब तक इस प्रकार किया जाता है कि ये इलेक्ट्रिक और मैग्नैटिक तरंगों का सबसे बड़ा स्त्रोत होती हैं। जब इन पर नंगे पैर चला जाता है तो अधिकतम ऊर्जा पैरों के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर जाती है।

मुझे गर्व है कि मैं भारत की समृद्ध संस्कृति में पैदा हुआ।
जय हिंद, जय भारत
जानकारी शेयर करें कृपया

लेखक
अजय बालोतरा
युवा लेखक
विभिन्न स्रोतों से जानकारी प्राप्त की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *