ग़ज़ल

तेरे कन्ने यारा अज गल काह्जो लाई बैठा I
सुपणे दीं गल्लां दा फैहर एडा पाई बैठा II

पीह्न्ग निक्की जेह्या गल्ला कैंह् हँगाई बैठा,
जोत प्यारे दी दिलें काह्जो जल़ाई बैठा I

सामणे जे आई कैंह् नीं कितियाँ दो गल्लां तैं,
होई मचलेयाँ फी कैंह् नजरां चुराई बैठा I

कैंह् बदंगा रोगियां ते ऐ कराया तैं लाज ,
फाल़ुआं जाणी दिले देयाँ फुटाई बैठा I

हत्थे रा शाह्रा कुसा जे होरा गल्ला होया ,
कैंह् भलेखें प्रीतां दे फाह्ई तू पाई बैठा I

हाक्ख नींयो लगदी जाल्हू ते बी हाक्खीं लगियां ,
वैरियां दी नजरां नै चैना गुआई बैठा I

महफला बिच कोई डुस्सी डुस्सी ऐ रोआ दा ,
प्यारे आली कैंह गज़ल ‘कंवर’ तूँ गाई बैठा I

‘शैल निकेत ‘ अप्पर बड़ोल
धर्मशाला I
9418185485