….तेरी यादें भी अजीब है …

तेरी यादें भी अजीब है
हर पल याद दिलाता है

ना जाने क्या कशिश है
आज भी साथ महसूस करता हूँ

तुम ना हुवे जिंदगी में तो क्या
तुम्हारी हसीन यादें तो साथ है

आजाओ मेरे ख्वाबों के ख्यालों में
में आज भी तेरी तस्वीर दिल में लगाये बेठा हूँ

तेरी हसीन सूरत आज भी
दिल को बेचेन कर रही है

मत जाना कभी दुर मुझ से
में टूट कर बिखर जाऊँगा

याद रखना मेरी बात को
में तुम्हारे बिना बिल्कुल अकेला हूँ

हर पल यही सोचता है मन मेरा
केसे तुम मेरे बीन जीते हो

राम भगत