ग़ज़ली
प्रत्यूष गुलेरी
जिह्न्नी घड़ेया ति’ज्जो
मैं तिसजो बड्डा मन्नां
कैत ऐ लैणा सुन्ना
जेह्ड़ा तोड़ी खाए कन्नां
आस पड़ेसी लड़दे
नां मिल्लै तोपेया बन्नां
पत्थरां ठौकर पाए
सैह जट्ट था मित्तरो धन्नां
बड्डे बड़े मुकाए
सच बिगड़ियां तिगड़ियां रन्नां
चोह्डा़ कदी निं मुक्का
सरकारी पेईयां छन्नां
कुसदैं अग्गैं रोणा
जे ऐ हाकम टौणा अन्नां
खाई पी हन मुकरे
पकड़ोए जेह्ड़े बि सन्नां
गल्ला कुसी ना मन्नैं
तां थोह्बड़ तिसदे भन्नां।

कीर्ति कुसुम,सरस्वती नगर
पो दाड़ी,धर्मशाला(हिमाचल प्रदेश)।