“जीणा खोट्टा तिन्हां दा” गीत

नवीन हलदूणवी

अप्पू तांईं जींदे जेह्ड़े जीणा खोट्टा तिन्हां दा।
धरती दा भार बणी कजो दिनां गिणा दा ।।

बोलदे न रामसिंह गोरेयां नैं लड़ेया ,
अज़ादिया रे पाणे तांईं बच्चा-बच्चा मरेया ;
जप्पदा ए जग नां अज्ज सच्ची तिन्हां दा ।
धरती दा भार बणी………….

देस्से दा जुआन ही तां हद्दां जो सम्हाल़दा ,
हाल़ी मेरे देस्से दा -ई टब्बरां जो पाल़दा ;
कनैं करी के मज़ूरिया मज़ूर मैह्ल चिणा दा ।
धरती दा भार बणी………….

प्हाड़े दा तां राजा सैह्-ई जेह्ड़ा भेड्डां चारदा ,
लक्खां मणा उन्न देई मुलखे जो तारदा ;
रात्ती ठंडू नैं ठंडोई करी तारेयां जो गिणा दा।
धरती दा भार बणी………….

फुरड़ां तूं छड्डी दे दिनैं-रात्ती कम्म कर ,
देस भलाइया बक्खी मोआ अज्ज कन्न कर ;
पिस्सदे कैंह् माह्णू इत्थू ख्याल रख तिन्हां दा ।
धरती दा भार बणी………….

जाल्हू-जाल्हू बीतां लोड़ पौऐ दित्तीयां कुर्वानियां ,
म्हाचले दे जागतां री एह्यो-ई नशानियां ;
शहीदां दीया पाल़िया च पैह्ला नां तिन्हां दा।
धरती दा भार बणी………….

जज्ज ते जरनैल दित्ते इत्थू दी जनानियां ,
मर्दे दा हौंसला न सैह् मर्दानियां ;
मुकावला ‘नवीन’ कुण करी सकै तिन्हां दा ।
धरती दा भार बणी………….

अप्पू तांईं जींदे जेह्ड़े जीणा खोट्टा तिन्हां दा।
धरती दा भार बणी कजो दिनां गिणा दा।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर- 176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल l