*तोल्ली समझी के*

अणमुक्क मुंहे होया ज्चा
फिरी भी छुटदी हैयनी चाह

इच्छां पर नी क़ाबू रैह्न्दा
मुच्छ नी मन्ने बगानी छाह

ढिढ नी कदी भरोणा एह
खाई छड्डा भौएं घा-पत्राह

सौकणी दा है भांडा बड्डा
टिर्दियाँ लाळां’ओ सब पता

काह्लू जाह्ङ्गा मने ते न्हेरा
अक्ला दा तू दिय्या जगा

ढंगे दा कुछ ल्खोणा नी पर
कागज़ ही रंगणे खामखाह

मित्रां ते सिक्ख मोया ‘भूपी’
तोल्ली समझी के ही ग्ला
— भूपेन्द्र जम्वाल ‘भूपी’

2.
निहाळदे रेह रात पूरी भित्तां खोली के
ठग्गी गेया सांजो सैह झूठ बोली के

अप्पू तां सुत्ता हुणा सैह लम्मी ताणी के
इक्क इक्क पल लंघाया तोली तोली के

कित्तणी कि करनी थी भला छंडपटाक
लेयोह्न्देया तोप्पी अंबरे-धरती खरोह्ली के

कसर कोई नी रक्खी खातरदारिया भी
थकी गइआं ‘न बाहीं पक्खियां झोली के

रंग तां कुसी होरसी दा चढ़ना नी कदी
जितणे मर्ज़ी रौंगले दिक्खा गचोह्ली के
——भूपेन्द्र जम्वाल ‘भूपी’