आशा की किस्ती को
हम ले चले हैं
हिम्मतकी पतवार से
वकत की विपरीत धारा में
नहीं पता हमें
पाऐगे मन्जिल
यह फिर
हो जाऐगे शिकार
लालच , वेईमानी, खुदगर्जी
के पत्थरों का
और डूव जाऐगे
अपनी ही आशा के
दरिया के भंबर मे।
डा. कुशल कटोच.
हमारा घर
लोअर वडोल दाडी
धर्मशाला 176057
9418079700