तन्हा सफ़र/पं अनिल

तन्हा सफ़र🙏🙏

तुम बदले हम भी बदल गये।
क्या बुरा गिरे सम्हल गये ।।

अब अदाओं में वो रानाई कहाँ ।
बाजार है खोटे सिक्के चल गये ।।

बंद हैं सबके दरीचे बंद रहें ।
बावरे गीत गाते निकल गये ।।

दोष रब को दे रहे नादान सब ।
खुद जुवारी हाथ खाली मल गये ।।

तन्हा सफ़र ज़िंदगी का है अनिल ।
जो मिले ख्वाब को भी छल गये ।।

🙏 सुप्रभातम्🙏
💐 पं अनिल💐

अहमदनगर महाराष्ट्र
8968361211न्हा सफ़र🙏🙏

तुम बदले हम भी बदल गये।
क्या बुरा गिरे सम्हल गये ।।

अब अदाओं में वो रानाई कहाँ ।
बाजार है खोटे सिक्के चल गये ।।

बंद हैं सबके दरीचे बंद रहें ।
बावरे गीत गाते निकल गये ।।

दोष रब को दे रहे नादान सब ।
खुद जुवारी हाथ खाली मल गये ।।

तन्हा सफ़र ज़िंदगी का है अनिल ।
जो मिले ख्वाब को भी छल गये ।।

🙏 सुप्रभातम्🙏
💐 पं अनिल💐

अहमदनगर महाराष्ट्र
8968361211

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *