गीत

सौह्ण महीना नेहरियां रातीं
अम्बर गरजै भर बरसातीं
कंध मेरा बड़ी दूर।।।।।।

पिपल़ैं पीह्गां पैंह्ण अड़िये
कुड़ियां झूटे लैण अडिये
कंध मेरा बड़ी दूर।।।।।।।।

नण्दां मैह्दी लगान्दियाँ नी
दस्सी दस्सी मिंजो जल़ान्दियाँ नी
कंध मेरा बड़ी दूर।।।।।।।।

दराणी जेठाणी मेले जान्दियां
मिंजो घरैं छड्डी खुशियां मनांदियां
कंध मेरा बड़ी दूर ।।।।।।।

इक जल़ी ओवरी ओबान अड़िये
मेरा बाहर बछाण अड़िये
कंध मेरा बड़ी दूर ।।।।।।।

धीयां भेजी परदेसां अड़िये
मापे छुटीगै कलेशां अड़िये
कंध मेरा बड़ी दूर।।।।।।।

बिजली लसकै लस लस अड़िये
डरदी मेरी नस नस अड़िये
कंध मेरा बड़ी दूर।।।।।।

इक *निराश*तेरे बजोगैं मारेया
दूजा तेरे मापियां दुतकारेया
कंध मेरा बड़ी दूर।।।।।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी, लोअर बड़ोल
पीओ..दाड़ी,धर्मशाला हि प्र
176057
मो० 9418823654