कविता/नवीन हलदूणवी

“नैंइ सेहरा एह् अज़ादी दा”

नवीन हलदूणवी

समाजे च कैंह् पिस्सदा माह्णू,
मौज़ां मारन साह् कनैं साह्णू ,
फिरी बी सुत्तेया तिद्दा जाणू ,
एह् किस्सा तां बरबादी दा ।
देस भलाई सोच माह्णुआं,
नैंइ सेहरा एह् अज़ादी दा ।।

भई जीणा दे कनैं अप्पू जी ,
तूं गरीबां दे मत लहुआं पी,
दिक्ख जुलमां जो मत ओठां सी ,
अज्ज पक्खरू बोल्लै रात्ती दा ।
न घरे च अप्पू कदीं लड़ोआ ,
नैंइ सेहरा एह् अज़ादी दा ।।

अप्पू च कजो लड़ी मरोणा ,
दूए दा नैंइ हिस्सा खोह्णा ,
बेह्लड़ बणीं नीं इत्थू बौह्णा ,
मत – भेत मटाणा जाति दा ।
भई देसगद्दारी – भ्रष्टाचारी ,
नैंइ सेहरा एह् अज़ादी दा ।।

टैक्सां दी भई मत कर चोरी ,
घरे दा बणेयां तूं कैंह् घोरी ,
करी स्मग्गलिंग दौलत जोड़ी,
कैंह् मज़नूं बणेयां बाबी दा।
‘नवीन’छडी$ दे बुरियां इल्लतां,
नैंइ सेहरा एह् अज़ादी दा।।

नवीन हलदूणवी
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल l

भारते नैं प्यार करा ”
………………….. नवीन हलदूणवी

अज्जकी ध्याड़ी फ़ी आज़ादिया दी आई गेई l
भारते नैं प्यार करा मिंजो नैं गलाई गेई ll

घाड़े घढ़ी घरपुट्टू बगड़ौल फुम्मणियां पा दे,
भई तरक्किया दी योजना जो ढिग्गा रड़का देl
देवतेयां दे द्वारैं बी चलाई करी गोल़ियां ,
मनुक्खता दे वैरी भाइयो पस्स नैंइयों खा दे l
दंदां-मुच्चां मारियै गद्दारी जंघां भारियै ,
भारते दे पैहरुआं दी निंदर डुआई गेई ll

ठग्गां ते पठंगियां नैं नौंएं नारे लाईत्ते ,
रौल़ारप्पा पाई लोक्की अप्पू च घुल़ाईत्ते l
कुचज्जे कम्म वेतरीत्ते भाड़े देयां टट्टुआं ,
भई वफ़ादार भारते दे धूड़ी च रुल़ाईत्ते l
वगते सम्हाल़ा भाऊ बोलदे न चाचा -ताऊ ,
चाणचक्क सल्ह़ेयां ए कुथुआं ते आई गेई ll

मुसीवतां दा बेल्ला पौऐ इक्कमुट्ठ होई जा ,
वैरियां दे अग्गैं छात्ती ताणीं के खड़ोई जा l
टोट्टे-टोट्टे होई जा नीं देस्से दी अखंडता ,
अंग कोई नीं भारती शरीरे दा ढलोई जा l
रुआज-रूप-रंग सांझे सांझा भाइयो देस ऐ ,
ओपरी फटक्क इत्थू आई के समाई गेई ll

अज्जकी ध्याड़ी फ़ी आज़ादिया दी आई गेई l
भारते नैं प्यार करा मिंजो नैं गलाई गेई ll

नवीन हलदूणवी
०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,
जिला कांगड़ा (हिमाचल) l

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *