कहानी / ठुमरी/मोनिका शर्मा सारथी

पहाड़ी कहानी
ठुमरी
—- –

अम्मा ठुमरी हुण भी ओंदी मैं ऊआने ते जोरे गलाई अम्मा ते पूछया।ना ना मिये, ठुमरीया दियां हण सैह गल्ला थोड़ी रैहीयां जेड़ीया पैहले थीयां ,हण तां ठुमरी लस लस करदे टाईलां आळे मकाने च रैंहदी गड़ियां च घूमदी ऐन बधिया कपड़ेयां पांदी।अम्मा चाही दा कप मिंजो थमादिया जुआब दित्तेया करी इक कप अप्पू पकड़ी अहां दोनों चुसकियां लाणा लगी पैईयां ।हल्ला जी ,एह जेड़ी सवीफ्ट ड़िझायर गड़्ड़ीया चह बैठी करी गई सैह ठुमरी है करी सैह गड़्ड़ी विजय दी है? हाँ मिये विजय हण बड्डा अफसर बणी गया।हाँ अम्मा ठीक गला दे तुसां इको इक पुत्र ता है सैह ठुमरिया दा।मिंजो ता अम्मा सैह दिन हजे भी याद हण जाल्हू ठुमरी टल्लियां वाळेया कपड़ेया पांदी थी ,घर घर भाड़ेयां माजंदी थी करी गंलादी थी ,क्या करना जे विजय दा बापू मरी गया मैं पालणा करी बड़्ड़ा अफसर बणाणा प्रेमा तेरीया आळीया जमाती च दाखल कराई ता मैं विजय स्कूले।इह्यां पढ़ने जो भी लाइक था अम्मा सैह सोगी तां पढ़े असां एह दंसवी बाद मैं बाहर भेजी थी तुसां।मिंजो भी बड़ा प्यार करदी थी ठुमरी कई बरी मेरे सिरे दियां गुत्ता भी गुंदिया तिसा जालहू स्कूले जो देर होई जांदी थी।प्रेमा तिज्जो सैह दिन याद है जाल्हू मैं ठुमरीया जो रोटी खाणे जो दित्ती करी जिना रोटी लपेटी थैलीया पाई लैई कि जागते स्कूले ते भूखे ओणा सैह खाई लैंगा,घरे आट्टा नि है जिना पैसेया दा आट्टा ल्योणा था सैह जागते दिया फीसा दे कम्मे आई जाणे, लै ठुमरी तां एह दो मुट्ठी आट्टा लेई जा अजकणा कलकणा जुगाड़ होई जामा रोटिया दा।हाँ हाँ देया देया मैं लेई जांदी है जालहू विजय अफसर बणणा मैं सारेंया दी पाई पाई चुकाई देणी ऐ।हा हा हा हाँ अम्मा बकड़बाद तां बड़ी भारी थी सैह जे मुँहे ओंदा था गुली रखदी थी।और सुण प्रेमा इक बरी मैं अपणा चग्गू दित्ता जिसा जो ता गंलाणा लगी मिंजो रैहणा देया बहनजी अगर भाई साहब होंरा दी पराणी कमीज है तां सैह देई देया जागते कल काॅलेज जाणा बचारे जो पाणे जो होई जांगी, मैं गलाया जागत जागत ही करदी रैंदी अप्पू जो भी दिख्खा कर।हाँ ता मैं अप्पू जो भी दिखणा जागते अफसर बणी जाणा मैं सब किछ बसूली लेणा उसते।अम्मा विजय ब्योही गया?होर ब्योही गया अपणीया मर्जीया कितेया तिन्नी ब्याह,अम्मा दाळी तुड़कदी गलाणा लग्गी।अम्मा सदा इको दे दिन थोड़ी रैंहदे ठुमरीया दे दिन बदळोई गै,मेरा मन ठुमरीया ने मिलणे जो बड़ा करा दा मैं मिली ओंदी ऐ बहाने ने विजय दीया लाड़िआ भी दिख्खी ओंगी।मैं जाई रैही ठुमरीया दे घरे ।जिह्यां ही घण्टी बजाई दरवाजा खुला खोलणे वाळीया जो तां मैं दिख्खदी रैही गई ।ऐन गोरी चिट्टी लम्बी पतली वरैनडिड कुर्ता पाया लम्बे बाल मिंजो अग्गे ता जिह्यां कोई परी थी खड़ोई गई यो बोहत ही खूबसूरत थी।हाँ जी कुदे ने मिलणा तुसां।मैं ख्यालां दिया दुनिया ते बाहर आई।नमस्ते भाभी जी तुहां मिंजो नि जाणदे पर मैं प्रेमा है मैं करी विजय किठ्ठे पढेयो।हो अच्छा अच्छा औआ अंदर आई जा ।मैं अंदर गई क्या गल करनी जिह्यां लग्गे मैं महले च होंगी आई गईयो।बैठा तुसां मिंजो बधिया सोफे पर बठैळी ता।विजय कतां है? सैह सब्जी ल्योणा गेयो बस ओणे आळे ही हन।इसते पैहले मैं ठुमरीया ताईं किछ गंलादी करी पूछदी ।बेबे पाणिये दा ग्लास लेई करी आ झट विजय दी लाड़ी जोरे ने रोबदार अवाजा नें बोली।पाणी लेई करी जळी डिल्लिया डिल्लियां जंगा चल्लीयो थी बूढ़ी अम्मा ।एह क्या कपड़े अजे तिक्कर हई नि बदले पता नि तिज्जो 5000 दा सूट था मिंजो ठीक नि बैठया तिज्जो देई ता हण तैं कम कमाणा तां इन्नी खराब नि होणा।लग्गीयो बदलणा कंमदिया अवाजा च बोली बूढ़ी ।मेरे पैरा हेठे जिह्यां जमीन खिसकी गई एह ठुमरीया दी आवाज थी।मैंते रेही नि हो या मैं गलाणा लग्गी ही थी कि ,ले या मैडम जी पाणी ,ठुमरीया गलाया।मैं समझी गई ठुमरीया मिंजो हई नि पछाणया। मैं किछ गंलादी अपण विजय दी लाड़ी बोली पैई ।एह साड़ी नौकराणी है ।मैं गलाया अच्छा मैं भी अणजाण बणी रैही ।होळे होळे कमांदी कम पर साफ सुथरा कम करदी।तुसां होर नौकराणी कैंह नि रखी लैंदे बचारी बूढ़्ढी होई गईयो।ना खरी है एह सारा कम कमादी और रखगे तां 12000 मंगदियां महीने दा करी चोरीया चारिया दा डर सैह लग।तां भाभी जी इसा जो क्या दिंदे तुसां महीने दा ?किछ भी नि मुफ्त कमांदी बस इक गल गंलादी कि जाल्हू मिंजो बाहर लिंगे ता खरे कपडेया पना करा करी गड़ीया च लेई जा करा।इब्बे भी होस्पिटल दस्सी करी लेया ऐ बुखार चढया अगर मंजा पकड़ी लेया ता कम कुन्नी कमाणा मैं ता मैनिक्योर करवाया ताजा ताजा खराब होई जाणे हथ।भाभी जी मैं मिली लेयां बेबे ने? हाँ मिली लेया।मैं कमरे च गई करी दिख्खया चटाईया पर बछाण कितेया सैही टल्लियां आळा झग्गू लगया सैही पराणी खिंद ओढिओ करी बख घेरी सुत्तियो थी ठुमरी ।मेरे अथरू नि थमोहन मन गलाए सच्ची ठुमरीया दे दिन बदलोई गै पैहले सैह घरे घरे दी नकराणी थी अपण रोबे च रैंदी थी हण सैह इकी घरे दी नकराणी ऐ जित्थू न रोब चलदा ना शरीर ।

मोनिका शर्मा सारथी
प्रसिद्ध लेखिका ओर जानी मानी कवयित्री हैं। इनकी गज़ले भी बहुत शानदार होती हैं।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *