आओ प्रण करें

सवतंत्रता दिवस के अवसर पर
आओ मिल कर प्रण करें
अर्पण करके तन मन धन
हम माँ की लाज बचायेंगे ।।।

चप्पा चप्पा आज वतन का
माँगे वीरों का वलिदान
रण भूमी का शिविर हो साथी
या उवड़ खावड़ खलिहान ।।।

हर जगह हर मौसम में
दिल में नयी उमंग लिये
मुश्किलों का सामना कर
हम अपना कर्तव्य निभायेंगे ।।।

रुकना अपना काम नहीं है
हमें आगे बढ़ते जाना है
देश की खातिर लाल देश के
मृत्यु को गले लगाना है ।।।

जब तक वाकी एक बूंद है
लहू की इस तन में साथी
कसम शहीदों के सर की
हम सब कुछ सहते जायेंगे ।।।

समय ज़रा सा नाज़ुक है
साथी तुम न घवराना
कांटो के पग पर भी तुम
कदम मिला कर बढ़ते जाना ।।।

कदम पड़ें गर दुश्मन के
अपनी पावन मिट्टी में
सच कहता हूँ मिलकर हम
पल में मार भगायेंगे ।।।

जागो देशवासियो ! जागो
निद्रा का आलम छोड़ो
जय बोलो भारत माता की
भेद भाव के बन्धन तोड़ो ।।।

जन्म दिया जिस मिट्टी ने
हाथ में ले उस मिट्टी को
निराश हम जान गंवाकर भी
यह मिट्टी नहीं गंवायेंगे ।।।

सुरेश भारद्वाज निराश♨
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी धर्मशाला हि प्र
176057
मो० 9418823654