प्रार्थना

तोड़ न देना धागे कृष्णा
हम बड़े आभागे कृष्णा।

जन्मों से हम भागे कृष्णा,
मन चरणों में लागे कृष्णा।

बहुत बार पुकारा तुमने
फिर भी हम न जागे कृष्णा।

नाम तेरा लिया न हमने
जन्मों के हैं नागे कृष्णा।

बहुत पीछे छूट चुके हैं
दुनियां हमसे आगे कृष्णा।

दूर कहीं शोर हो रहा
बंसी कानों में बाजे कृष्णा।

रास रचैया कृष्ण कन्हैया
राधा संग मन लागे कृष्णा।

जन्म लियो मथुरा में तूने
गोकुल माहीं बिराजे कृष्णा।

गोप गोपियों के तुम प्यारे
राधा मन के राजे कृष्णा।

तोड़के माखन मटकी छुपते
यशोधा पीछे भागे कृष्णा।

छवि सुन्दर है सुन्दर काया
मोर मुकुट सिर साजे कृष्णा।

निराश हमारी सुध भी ले लो
क्या है तुम्हारा लागे कृष्णा।

सुरेश भारद्वाज निराश
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ. दाड़ी धर्मशाला हिप्र
176057
मो० 9418823654