यादों का मेला

अगस्त 12, 2017

तेरी यादों का सजा कर मेला
गली गली घूमे है रविन्द्र अकेला

मैं हूँ तेरा पगला सा दीवाना
हो लेता हूँ हर कहीं से रवाना

कई देख मुझे गले लगा लेते हैं
कई देख दर्द में मुस्कुरा लेते हैं

बस यही तो अपना किस्सा है
सुख-दुःख जीवन का हिस्सा है

कोई लाखों पाकर भी खुश नहीं
हमें कुछ ना पाकर भी दुःख नहीं

यहाँ नसीब तो अपना अपना है
कोई पूरा तो कुछ सिर्फ सपना है

गम न कर कि तुझे क्या मिला है
यह तो तेरे अधूरे प्यार का सिला है

करनी है गर दिली मोहब्बत रविन्द्र
बना ले दिल में उसके प्यार का मंदिर
रविन्द्र अत्रि