गल्ल गट्ठी बन्नीं
——–+——+——-

गल्ल तां तेरी मैं
सारी मन्नीं ।
पर दस्स तू छल्ली
कैंह् है भन्नी ।।

सारी – ई रात भन्नीं
दाईया ।
कुड़ी फिरि धन्निया
जम्मीं अन्नीं ।।

दो – मण धान बी
हैई – नी निकले ।
सारी – ई गांहण मैं
कुट्टी – फन्नी ।।

जौन्टयां रात न
खज्जियां – ई भ्याग ।
न पुज्जे जुआल़ी
न पुज्जे ढन्नीं ।।

दिलें तां बस्से
हीर कनैं रांझा ।
न बलम्मां मिल्ले
न मिल्ली बन्नीं ।।

तड़फदे सुणे थे
कूंजू – चैंचलो ।
किस्सा – ई बणी गे
भूंक्खू – सुन्नीं ।।

घोड़िया – यो लाए
नाल़ भुआणा ।
जंघा है अड्डे
मीनकी अन्नीं ।।

ब्हतेरे तरल़े
मिन्नतां कीतियां ।
पर कट्टदे रैह् सैह्
पूरी कन्नीं ।।

पाणी था घट्ट
चफरोल़ बड़ी थी ।
काह्ल़ी करदें
लत्त लेई भन्नीं ।।

अज्ज नी मन्नदा
कोई कुसी दी ।
रख अपणी गल्ल
तू गट्ठी बन्नीं ।।

मत बणें जजोइया
तू “मस्ताना” ।
चुपचाप दड़ी रैह्
अपणिया छन्नीं ।।

गल्ल तां तेरी मैं
सारी मन्नी ।
पर दस्स तू छल्ली
कैंह् है भन्नीं ।।

रमेशचन्द्र “मस्ताना”,
मस्त-कुटीर : नेरटी, { रैत }, तहसील : शाहपुर,
कांगड़ा, हि.प्र. 176208.
मो. : 94184-58914.