1974च लिक्खियो रचना
बिशम्बर नवीन

वस्सा दे रस्सा दे हस्सा दे नच्चा दे ,
रोंदे दे अत्थरू पूंहझांदा नीं कोई ।

अप्पू च लोक्की मरोआ पटोआ दे,
दूए जो इत्थू सुखांदा नीं कोई।।

लुक्का दे जाड़ां च सुच्चे लखारी,
झेड़े गरीबां दे गांदा नीं कोई ।

डोई जिस्सदैं हत्थैं सैह्-इ सिर मत्थैं,
माड़ा भई तिस्सजो गलांदा नीं कोई ।।

जुलमां दी चक्किया च पिस्सा दा माह्णू,
रपट्ट बी ठाणे लखांदा नीं कोई ।

अमीरे दी गिल्हड़ी सभनां दी बोब्बो ,
गरीबे दी काणीं बिआंह्दा नीं कोई।।

खट्टे दी खट्टी खांदी एह् दुनियां,
मधरे दी कड़छी दुआंदा नीं कोई ।

खाई-खाई कुसी जो औआ दीयां गुल्छां,
भुक्खे जो इत्थू रजांदा नीं कोई ।।

भई चलदीयां देई सभ यार हुंदे ,
माड़े जो मत्थैं लगांदा नीं कोई।

भरी-भरी उंद्दल़ां सुक्खां दी लुट्टा दे,
दुक्खां दी ढेरी बंडांदा नीं कोई ।।

ढभज्जां भरोइयो ऐ खलकत्त सारी ,
भरमां ते बैह्मां मिटांदा नीं कोई ।

‘नवीन’ झसोंदा कैंह् दुनियां जो दिक्खी,
सच्चे दे बड्ढै तां जांदा नीं कोई ।।

बिशम्बर नवीन
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल l