लफड़ा”
कवता लिखणा लफड़ा भारी,
कविये रविये मार डुआरी।
गासोसास उड़ी बिन फंगां,
भुह्यां पौंदे थक्की हारी।
बिंदी कौमे चरणां अखरां,
छंदां फंदा दी तरकारी।
किछ कविये हन मेरे साईं,
किछ रविये भाऊ सरकारी।
किछ उडदे हन बाह्जी फंगां,
फड़-फड़ मितरा सुम्मै भारी।
किछ सज्जण जी लग्गण हीरो,
लांदे तगड़ा सूट स्फारी।
अपणी दुनिया दे ए वासी,
जिंह्यां लगियो खास बमारी।
गल्लां छैल़ गलांदे दिक्खे,
सच्ची थोड़े छैल़ वियारी।
फुल्ल सजीले सज्जण जिंह्यां,
तिंह्यां छड्डण खुस्बू भारी।
किछ दुसदे हन माड़े-रीड़े,
कवता लिक्खण खूब सुअारी।
मैं बी कवता लिक्खी सुट्टी,
ए कवता तूँ समझा आ री।
किछ छपदे किछ लिखदे रैंह्दे,
किछ बणयो मित्तर अखबारी।
खूब रड़ांदे कुल़जण पीड़ां,
मिल्लै ना किछ मगजे मारी।
किछ पुत्तर बड्डे बब्बे दे,
रस्ता दसदी ऐ महतारी।
किछ फिरदे जी डौंड-डरौकल़,
मौक्का तोप्पण जुल्फां पाह्री।
पर सबनां दी गल्ल खरी ए,
सब्ब सरस्वति मात-पुजारी।
नित्त ‘नवीन’ लिखा करदे ए,
नित्त नवीन नवीन लखारी।।।?

नवीन शर्मा ‘नवीन’
गुलेर-कांगड़ा(हि०प्र०