बणेया रिश्ता गुआणा लग्गे

मतियां गल्लां लुकाणा लग्गे
सांजो ते पड़देयां पाणा लग्गे

म्हारा क्या सुखसांत पुछणा
अपणा ही हाल छुपाणा लग्गे

रात रात भर कुसकी सौग्गी
गप्पां मारी जळाणा लग्गे

सच्ची गल्ल जे पुच्छी लेई
झूठेयाँ रागां गाणा लग्गे

दुव्ए दे दिले जो फूकी के
मज़े ने हसणा गाणा लग्गे

किह्यां हंडणा तिसा बत्ता
जित्थू सैह् पैरां पाणा लग्गे

होर प्यार क्या बद्धणा था
बणेया रिश्ता गुआणा लग्गे

—– भूपेन्द्र जम्वाल ‘भूपी’
नगरोटा बगवां , कांगड़ा