ग़ज़ल

बिशम्बर नवीन

देसद्रोहियां दिक्खी करियै ,
स्हाड़ा दम्म घटोऐ l
भा$-भत्ते हन गास्सैं छूं:दे,
किंह्यां छट्ट भरोऐ ??

अणमुक धोक्खा फितरत बधदी,
पौऐ रौल़ा-रप्पा l
छल़कपटी हुण चढ़न चवारैं,
पक्की छत्त डटोऐ ll

काम्मे किंह्यां करन गुज़ारे ,
ठुल़-ठुल़ करदी झुग्गी ?
पैसे ब्हाल़ा बुढ़का करदा ,
अज्ज गरीब लटोऐ ll

माणुसता दा बेल्लीवारस ,
छड़ा कनूंन वचारा l
दिन-दिन दूणे भड़कन दंगे ,
खून्नीं नीं पकड़ोऐ ll

सुच्ची- सुथरी चीज़ गुआच्ची ,
फल़न फराऊ धन्धे l
भाग-भरोस्सैं बैठी स्हेलड़ ,
रात्ती-दिनैं पटोऐ ll

मौज़ “नवीन” मनांदे आए ,
जिंह्यां ब्हारी तोत्ते l
कलम बकाऊ माल बणी ऐं ,
झूठो झूठ लखोऐ ll

बिशम्बर नवीन
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा (हिमाचल)l