शीर्षक (सच्च सच्च बोल)
जे बोल्लैं सैह् सच्च सच्च बोल।
झूठे रा नीं कोई तोल, सदा सर्वदा सच्च सच्च बोल।
सच्च कुसी तैं कदी नीं डरदा, सच्चे री नीं टुटदी डोर।
सौ सौ झूठ चाहें बोल्ली छड्डा, सच्च इक कदी वी नीं छुप्पदा।
मर्ज़ी चाहे लाई लेया जितने जोर।
झूठो झूठ बोली नैं सच्च नीं बणदा ।
सच्च कदी वी नीं होंदा कमजोर।
जे बोल्लैं सैह् सच्च सच्च बोल।
सच्च थोड़ा देहा कौडा़ तां लग्गदा।
झल्लणे ताईं लाणा पौंदा किछ जोर।
सच्च बोल्लणे तैं कदी नीं डरना।
नीं कदी वी होणा तूं डांवाडोल।
वकील कचहरिया जिरह हन्न करदे।
झूठे री ताह्लू सब्बोई खुल्लदी पोल।
जिंदड़ी एह अनमोल बड़ी ऐ।
झूठे रे तूं सारे पर्दे खोल।
जे बोल्लैं सैह् सच्च सच्च बोल।
झूठे रा कोई बसाह (विश्वास) नीं करदा।
झूठे रा नीं कोई मन्नदा बोल।
सच्च तां सब्बोई थाईं सच्च ही रैहंदा।
सच्चे री हुंदी सारी दुनिया गोल।
परिमल इस करी न्नैं, जे बोल्लैं सैह् सच्च सच्च बोल।
नंदकिशोर परिमल, गांव व डा. गुलेर
तह. देहरा, जिला. कांगड़ा (हि_प्र)
पिन. 176033 संपर्क. 9418187358