ग़ज़ल/सुरेश भारद्वाज निराश

ग़ज़ल

औंदे जान्दे मिलदे तुसां नज़री कैह टाल़दे,
लुक्की लुक्की झरोख्यां च स्हांजो कैंह भाल़दे।

तिन्हा कनै लाई करी दोस्ती तुसां गैहरी,
पता नी स्हांजो तुसां रेहे कैंह जाल़दे।

दित्ते जख्म स्हांजो डूग्गे कसूर क्या था स्हाड़ा,
तुसां त़ाई असां भी रेहे जख्मा कैंह पाल़दे।

लाईयाँं थियां प्रीतां कनै बोल़दे थे लोक,
तुहाड़े तांई असां रेहे प्रीतां कैंह सम्भाल़दे।

दिले दियां दिले बिच रखियां थियां बथेरिया,
तोपी तोपी खुशियां रेहे असां कैंह ताल़दे।

बड़ियां झलियां पीड़ां असां दर्दे दिले दियां,
नासूर बणयो जख्म रेहे स्हांजो कैंह साल़दे।

जेहड़ा भी गलाया तुसां. असां मन्नी लेया,
स्हाड़ियां बेचैनियां जो रेहे तुसां कैंह उछाल़दे।

सुत्यां भी सहांजो कदी चैन नी पौणा दिंदे,
क्या खट्टी लेया तुसां रेहे स्हांजो कैंह उठाल़दे।

मारी घुराड़ियां तुसां गूढ़िया निन्द्रा सौंदे,
दु:ख तुहांजो स्हाड़ा यै असां निन्द्रा कैंह गाल़दे।

*निराश* क्या गलाणा मैं तुहाड़ियां तुसां जाणा,
सिक्र दोपैहरां दस्सा तुसां दीया कैंह बाल़दे।

सुरेश भारद्वाज *निराश*
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पी ओ दाड़ी, धर्मशाला हिप्र
176057
मो० 9418823654

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *