बिशम्बर नवीन

पुट्ठा पढ़ियै पाठ पठंगी ,
दिंदा ऐ लोक्कां जो तंगी l

पुट्ठपल्लड़े धूड़गोछिये ,
डौगर बणियैं जा दे डंगी l

अंधवसुआस्सां च भणकेरी ,
चालू चेल्ले करन चलंगी l

गड़बड़ करै कनूंन वचारा ,
बुढ़का करदा अज्ज दवंगी l

सब्बो जानण प्हाड़ मेरे च ,
ऐवड़ दी बी फल़ै वदंगी l

सच्ची गल्ल “नवीन” गलांदा ,
दुनियां इत्थू रंगवरंगी ll

बिशम्बर नवीन ०९४१८८४६७७३
काव्य-कुंज जसूर-१७६२०१,
जिला कांगड़ा (हिमाचल)l