ग़ज़ल

मुल्ल इन्सानां दा नी कोई बाजी मित्रां प्यारे,
धूड़ भरोयो अम्बरे पर कदि नी दुसदे तारे।

बंझलिया दी तान छेड़दा उच्चिया रिड़िया कोई,
तन मन मेरा होया बजोगी कजो सैह हक्कां मारे।

बकरु भेड्डू छेल्लू डंगरे, सबदा मै गुआल़ु,
तिन्हा च मेरा दिल बसदा हण मित्र मेरे सारे।

तिन बरी दो जमातां पढ़ियां रेहया स्कूलें जांदा,
इस ते गांह ज़रा नी बदया मास्टर डटी ने मारे।

फल्हा जुंगल़ा काल़ू गोरु लेई खुआड़े मैं पुज्जा,
कणका बिच्चा दाणे कडढे भरे भूऐ दे खारे।

तेरे बाजी दिल नी लगदा गल्ल सुणी जा मेरी,
दिक्खी दिक्खी कैंह तड़पांदी ओ! बांकिये नारे।

सब फिरा दे लाड़ियां सौगी कन्नै टव्वर टेरा,
असां बचारे किल्लमकिल्ले सदियां दे कुआरे।

दुध्द उफणैं सीं सीं करै चुल्लही पर दध्हूनु
मोआ “निराश” हाखीं खोल ढकणे करी दे टारे।

सुरेश भारद्वाज निराश😡
धौलाधार कलोनी लोअर बड़ोल
पीओ दाड़ी, धर्मशाला हिप्र
176057
मो० 9418823654