“ग़ज़ल”

बिशम्बर नवीन

बाब्बा वसदा-रसदा रैह्,
रोज नकेलां कसदा रैह् ।

ऐसी फाह्यी लाईत्ती ,
दुसमण आई फसदा रैह् ।

देस – मजोल़ू डिल़कै नीं ,
म्हेशा दौणीं कसदा रैह् ।

दौड़ बड़ी ऐ दाज्जे दी ,
मूरख माह्णू धसदा रैह् ।

कुड़ी वचारी रोआ दी ,
बाप्पू मत्थे घसदा रैह् ।

खूब नसेड़ी घुम्मा दे ,
तल़ुए – पैंरीं झसदा रैह् ।

चिट्टा बणियैं खड़पा जी ,
छोकरुआं कैंह् डसदा रैह्?

भारत बत्त तरक्की दी,
‘नवीन’ कविया दसदा रैह् ।

बिशम्बर नवीन
09418846773
काव्य-कुंज जसूर-176201,
जिला कांगड़ा , हिमाचल l