ग़ज़ल  

टुचकर करदा टुच्चा माह्णू I
रज्जी पुज्जी भुक्खा माह्णू II

मौत कदी नीं पिच्छा छड़दी ,
भौएँ डुड्डी लुक्का माह्णू I

मिलगा कीञाँ तिसजो रस्ता ,
चलदा चलदा सुत्ता  माह्णू I
जित्थू खाए छींडा पाए ,
होए कोई कव्वा माह्णू I

जिस्में जेड़ा रोग लगान्दा ,
पीन्दा कैह्जो हुक्का माह्णू I
घीयोए बिच चोकी दिक्खा ,
सैह् सुक्के दा सुक्का माह्णू I
बे समझी सैह् मारै तारी ,
उथलें पाणिएं डुब्बा माह्णू I
लुट्ट घसूटाँ करदा खांदा ,
फी हच्छे दा हच्छा माह्णू I

अपणी डफ़ली अपणे रागां ,
गाई हुन्दा कुप्पा  माह्णू I

भल माणसां जो खुड़्ड़ें लांदा ,
चिट्ट चरेल़ा लुच्चा  माह्णू I  
झूट्ठे डंड पठंडां बणदा ,
इक दूए ते उच्चा  माह्णू I

कोई तड़फे फिल्म बणान्दा ,
मनुखी धर्मे उक्का माह्णू I

संझा भ्यागा पाप कमान्दा ,
गंगा न्हौई सुच्चा माह्णू ?

कौड़े कन्ने  कौड़ा बोलै ,
सैह् भुच्चे दा भुच्चा माह्णूl

‘कंवर’ सोची समझी चलणा ,
पुट्ठैं रस्तें मुक्का माह्णू I    

✍ डा. कंवर करतार
‘शैल निकेत’ दाड़ी
धर्मशाला।
9418185485